Articles by Hridayesh Joshi

भागीरथी इको सेंसटिव ज़ोन के इस क्षेत्र में हज़ारों पेड़ सड़क चौड़ीकरण के लिये कटेंगे। तस्वीर- हृदयेश जोशी

उत्तराखंडः गंगोत्री मार्ग के घने जंगल मुश्किल में, भागीरथी इको सेंसेटिव जोन में पेड़ों पर मंडराता खतरा

उत्तरकाशी ज़िले के भटवाड़ी ब्लॉक में रहने वाले मोहन सिंह राणा ने 17 साल सेना में नौकरी की। अब यह रिटायर फौजी संवेदनशील हिमालयी क्षेत्र में अपने जंगलों को बचाने…
भागीरथी इको सेंसटिव ज़ोन के इस क्षेत्र में हज़ारों पेड़ सड़क चौड़ीकरण के लिये कटेंगे। तस्वीर- हृदयेश जोशी
आईपीसीसी की छठी आकलन रिपोर्ट कहती है कि दक्षिण एशिया और विशेष रूप से भारत में गर्म दिन और रातों की संख्या बढ़ रही है। तस्वीर- पिक्साबे

जलवायु परिवर्तन के सबसे स्पष्ट संकेत हीटवेव से कैसे बचें?

यह एक संयोग ही है कि जब जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञ पैनल (आईपीसीसी) ने अपनी छठी आकलन रिपोर्ट का तीसरा और अंतिम हिस्सा जारी किया तभी भारत…
आईपीसीसी की छठी आकलन रिपोर्ट कहती है कि दक्षिण एशिया और विशेष रूप से भारत में गर्म दिन और रातों की संख्या बढ़ रही है। तस्वीर- पिक्साबे
जानकार मानते हैं कि दीपावली की आतिशबाज़ी और खेतों में पराली के कारण दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का ग्राफ नवंबर में उछल गया। तस्वीर- सुमिता रॉय दत्ता/विकिमीडिया कॉमन्स

उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली में नॉक्स प्रदूषण का बुरा हाल, चुनावी साल में भी नहीं है मुद्दा

सर्दियों में एक बार फिर कई राज्यों में वायु प्रदूषण दमघोंटू स्तर पर है। पिछले दिनों दीवाली की आतिशबाज़ी, खेतों में पराली जलाने और उद्योगों के धुयें के साथ मौसमी…
जानकार मानते हैं कि दीपावली की आतिशबाज़ी और खेतों में पराली के कारण दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का ग्राफ नवंबर में उछल गया। तस्वीर- सुमिता रॉय दत्ता/विकिमीडिया कॉमन्स
पिछले दो दशकों में उत्तराखंड ने 1,200 से अधिक तेंदुओं को खोया है। तस्वीर- डेविड राजू/विकिमीडिया कॉमन्स

उत्तराखंड में तेंदुओं के साथ जीवन और जिम कार्बेट की विरासत

लगभग सौ साल पुरानी बात है। एक आदमखोर तेंदुए ने रुद्रप्रयाग के क्षेत्र में भारी तबाही मचा रखी थी। आठ साल में कम से कम 125 लोगों की जान लेने…
पिछले दो दशकों में उत्तराखंड ने 1,200 से अधिक तेंदुओं को खोया है। तस्वीर- डेविड राजू/विकिमीडिया कॉमन्स
उत्तरकाशी के एक सुदूर गांव को जोड़ने के लिये लकड़ी के तने से बना कामचलाऊ पुल, ऐसे पुलों से फिसल कर कई बार लोगों की मौत हो जाती है। तस्वीर– हृदयेश जोशी

[वीडियो] उत्तराखंड: दरक रहे हैं हिमालय के सैकड़ों गांव

उत्तराखंड के उत्तरकाशी से करीब बीस किलोमीटर दूर कठिन पहाड़ी पर बसा है एक छोटा सा गांव: ढासड़ा। कोई 200 लोगों की आबादी वाला ढासड़ा पिछले कई सालों से लगातार…
उत्तरकाशी के एक सुदूर गांव को जोड़ने के लिये लकड़ी के तने से बना कामचलाऊ पुल, ऐसे पुलों से फिसल कर कई बार लोगों की मौत हो जाती है। तस्वीर– हृदयेश जोशी
सुन्दरलाल बहुगुणा: भारतीय पर्यावरणवाद के एक युग का अंत

[श्रद्धांजलि] सुन्दरलाल बहुगुणा: भारतीय पर्यावरणवाद के एक युग का अंत

क्या हैं जंगल के उपकार, मिट्टी, पानी और बयार। मिट्टी, पानी और बयार, जिन्दा रहने के आधार। यह नारा सत्तर के दशक से हिमालय की वादियों में गूंज रहा है।…
सुन्दरलाल बहुगुणा: भारतीय पर्यावरणवाद के एक युग का अंत
उत्तराखंड त्रासदी - चमोली में आए बाढ़ के बाद एनटीपीसी पनबिजली परियोजना को खासा नुकसान हुआ है। तस्वीर- हृदयेश जोशी

उत्तराखंड त्रासदी के बाद हिमालय क्षेत्र में अंधाधुंध विकास की होड़ पर फिर उठने लगे सवाल

उत्तराखंड त्रासदी के तीन दिन बीतने के बाद भी ऋषिगंगा नदी के आसपास अफरातफरी मची हुई है। तीन दिनों से लगातार राहत एवं बचाव कार्य चल रहा है। सैलाब के…
उत्तराखंड त्रासदी - चमोली में आए बाढ़ के बाद एनटीपीसी पनबिजली परियोजना को खासा नुकसान हुआ है। तस्वीर- हृदयेश जोशी