Articles by Gurvinder Singh

झारखंड में कोयला खदान से तहस-नहस हुई जमीन को वापस संवारने की कोशिश

[वीडियो] झारखंड: कोयला खदान से बर्बाद हुई जमीन के सुधार से सुधरी कई परिवारों की जिंदगी

बीते कुछ वर्षों में झारखंड के चतरा जिले की बेंती गांव निवासी कठपुतली देवी का जीवन बदला है। कुछ महीनों पहले तक गांव के समीप पिपरवार कोयला खदान की वजह…
झारखंड में कोयला खदान से तहस-नहस हुई जमीन को वापस संवारने की कोशिश
कावर झील के आसपास रहने वाले मछुआरों के लिए यह आजीविका का साधन है। फोटो- समीर वर्मा

बिहार को मिले पहले रामसर स्थल से क्यों खुश है मछुआरे

बिहार की राजधानी पटना से तकरीबन डेढ़ सौ किलोमीटर दूर बेगुसराय में एशिया का सबसे बड़ा गोखुर झील है। इसका नाम कावर ताल है। जब नदी अपना रास्ता बदल देती…
कावर झील के आसपास रहने वाले मछुआरों के लिए यह आजीविका का साधन है। फोटो- समीर वर्मा
पटना में ठोस कचरे को खुलेआम जलाया जाता है जिससे वायु प्रदूषित होती है। फोटो- समीर वर्मा

बिहार में प्रदूषित हवा का असर दिखना शुरू, हर साल 60 हजार लोगों को हो रहा फेफड़े का कैंसर

सत्तर की उम्र में राज कुमार यादव एक गंभीर रोग से जूझ रहे हैं। तीन महीने से वह अस्पताल में भर्ती हैं। बार-बार खांसी का दौरा पड़ता है और कभी-कभी…
पटना में ठोस कचरे को खुलेआम जलाया जाता है जिससे वायु प्रदूषित होती है। फोटो- समीर वर्मा
पिथारा गांव के किसान उमेश कुमार अपने हरे-भरे खेत में खड़े होकर फसलों को दिखा रहे हैं। फोटो- सोशल एक्शन फॉर रूरल डेवलपमेंट (एसएआरडीए)

पानी बचाने के छोटे-छोटे प्रयोग से झारखंड के किसानों की बढ़ी आमदनी

उमेश कुमार सिमडेगा जिले के एक मेहनती किसान हैं। पहाड़ियों और हरे जंगल से घिरा उनका गांव एक सकारात्मक परिवर्तन से गुजर रहा है। पिछले कुछ सालों से उमेश अपने…
पिथारा गांव के किसान उमेश कुमार अपने हरे-भरे खेत में खड़े होकर फसलों को दिखा रहे हैं। फोटो- सोशल एक्शन फॉर रूरल डेवलपमेंट (एसएआरडीए)