Articles by Madhav Sharma

मदारी समुदाय के लोग अब ऐसे ही कॉस्टयूम से काम चलाते हैं। तस्वीर- माधव शर्मा

कहां चले गए भालू-बंदरों का खेल दिखाने वाले मदारी?

राजस्थान के टोंक शहर के एक मोहल्ले में डमरू बजाते हुए नूर मोहम्मद, भालू को निर्देश दे रहे हैं। मदारी का खेल दिखाने वाले नूर के कहने पर भालू कभी…
मदारी समुदाय के लोग अब ऐसे ही कॉस्टयूम से काम चलाते हैं। तस्वीर- माधव शर्मा
ग्रीन पावर कंपनियों द्वारा ओरण में चल रहे कामकाज का ग्रामीण विरोध कर रहे हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि यहां बीते डेढ़ साल से कई सोलर कंपनियां ओरण के मायने बदलने की ही कोशिश कर रही हैं। तस्वीर- सुमेर सिंह भाटी

[वीडियो] ‘ग्रीन पावर’ से राजस्थान के ओरण और गोडावण के अस्तित्व को खतरा

‘ओरण उपजै औषधी, ओरण लाभ अनेक, ओरण बचावण आवसक, निश्चै कारज नैक।‘  यानी ओरण के अंदर कई प्रकार की औषधियां उत्पन्न होती है। ओरण के अनेक लाभ हैं। ओरण को…
ग्रीन पावर कंपनियों द्वारा ओरण में चल रहे कामकाज का ग्रामीण विरोध कर रहे हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि यहां बीते डेढ़ साल से कई सोलर कंपनियां ओरण के मायने बदलने की ही कोशिश कर रही हैं। तस्वीर- सुमेर सिंह भाटी
राजस्थानः बारिश की बूंद बचाकर हजारों परिवार ने पाई लोहे तक को गला देने वाले पानी से निजात

[वीडियो] राजस्थानः बारिश की बूंद बचाकर हजारों परिवार ने पाई लोहे तक को गला देने वाले पानी से निजात

मिलिये 60-साल की प्रेम दरोगा से जो जयपुर जिले की दूदू पंचायत समिति के भोजपुर गांव की रहने वाली हैं। चार साल पहले तक इनको प्रतिदिन आठ किलोमीटर पैदल चलना…
राजस्थानः बारिश की बूंद बचाकर हजारों परिवार ने पाई लोहे तक को गला देने वाले पानी से निजात
रेगिस्तान में भेड़ों का एक झुंड

तस्वीरों में कैद रेगिस्तान: खतरे में है थार का पारिस्थितिकी तंत्र

जब जैव-विविधता और वन्य जीवों की बात होती है तो अमूमन सबका ध्यान घने जंगलों की तरफ जाता है। पर इस खूबसूरत पृथ्वी के लिए रेगिस्तान की जैव-विविधता भी काफी…
रेगिस्तान में भेड़ों का एक झुंड
माउंट आबू में स्लोथ बीयर यानी भालुओं की संख्या लगातार कम हो रही है। पूरे राजस्थान में लगभग 655 भालू हैं। तस्वीर- रुद्राक्ष चोडनकर/विकिमीडिया कॉमन्स

माउंट आबूः भालुओं ने किया बंदर का शिकार, विशेषज्ञ हैरान, राजस्थान का पहला मामला

बीते फरवरी महीने की 17 तारीख को माउंट आबू के जंगलों में भालुओं  ने अपने स्वभाव के विपरीत एक बंदर का शिकार किया। इस वाकये ने वन्यजीव विशेषज्ञ और जानकारों…
माउंट आबू में स्लोथ बीयर यानी भालुओं की संख्या लगातार कम हो रही है। पूरे राजस्थान में लगभग 655 भालू हैं। तस्वीर- रुद्राक्ष चोडनकर/विकिमीडिया कॉमन्स
जयपुर स्मार्ट सिटी के कचरे से बना पहाड़। यहां कलकत्ता से आए जहांगीर आलम कचरा बीन रहे हैं। दिनभर कचरे के इस ढेर पर मेहनत करने के बाद यह 300 रुपए तक का कचरा जमा कर लेते हैं। तस्वीर-माधव शर्मा

जयपुर: कई गांवों में ‘मौत’ बांट रहा स्मार्ट सिटी से निकला कचरा

महज 20 साल की उम्र में जोरावर सिंह कविया को सांस लेने में दिक्कत होने लगी। राजस्थान की राजधानी जयपुर की विधानसभा से महज 25 किमी दूर सेवापुरा ग्राम पंचायत…
जयपुर स्मार्ट सिटी के कचरे से बना पहाड़। यहां कलकत्ता से आए जहांगीर आलम कचरा बीन रहे हैं। दिनभर कचरे के इस ढेर पर मेहनत करने के बाद यह 300 रुपए तक का कचरा जमा कर लेते हैं। तस्वीर-माधव शर्मा