Articles by Varsha Singh

उत्तराखंड की वादियों में लगे सोलर पैनल्स। राज्य सरकार ने कोविड-19 की वजह से बेरोजगार हुए लोगों को पलायन से रोकने के लिए सौर स्वरोज़गार योजना की शुरुआत की थी। तस्वीर- वर्षा सिंह

[वीडियो] उत्तराखंड: सौर स्वरोज़गार योजना की इस रफ़्तार से कैसे रुकेंगे रोज़गार की तलाश कर रहे प्रवासी

पर्वतीय ज़िले पौड़ी के कोट ब्लॉक के कोट गांव के सागर रावत की दिल्ली की आईटी कंपनी की नौकरी छूट गई थी। वह बताते हैं, “लॉकडाउन की वजह से मेरे…
उत्तराखंड की वादियों में लगे सोलर पैनल्स। राज्य सरकार ने कोविड-19 की वजह से बेरोजगार हुए लोगों को पलायन से रोकने के लिए सौर स्वरोज़गार योजना की शुरुआत की थी। तस्वीर- वर्षा सिंह
एसएमएस से मौसम की जानकारी किसानों के लिए कितनी है कारगर?

एसएमएस से मौसम की जानकारी किसानों के लिए कितनी है कारगर?

एक तरफ टिहरी के किसान भागचंद रमोला हैं। रुआंसे होकर अपने अनुभव बताते हैं कि इस साल साफ़ मौसम और खिली धूप देखकर उन्होंने सब्जियों की नर्सरी पर लगी नेट…
एसएमएस से मौसम की जानकारी किसानों के लिए कितनी है कारगर?
गंगोत्री नेशनल पार्क में लगे कैमरा ट्रैप में कैद कस्तूरी मृग की तस्वीर (बाएं) और पहाड़ियों में स्वच्छंद विचरण करता भरल। तस्वीर- डब्लूआईआई और रंजना पाल

उत्तराखंड: कैमरा ट्रैप से मिला कस्तूरी मृग और भरल की गिनती का तरीका

देश में बाघों और हाथियों की गणना तो की जाती है। लेकिन बहुत से वन्यजीव ऐसे हैं जिनकी संख्या और मौजूदा स्थिति का हमें ठीक-ठीक अनुमान नहीं है। उच्च हिमालयी…
गंगोत्री नेशनल पार्क में लगे कैमरा ट्रैप में कैद कस्तूरी मृग की तस्वीर (बाएं) और पहाड़ियों में स्वच्छंद विचरण करता भरल। तस्वीर- डब्लूआईआई और रंजना पाल
क्या आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस के प्रयोग से बदलेगी उत्तराखंड वन्यजीव संरक्षण की तस्वीर!

क्या आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस के प्रयोग से बदलेगी उत्तराखंड वन्यजीव संरक्षण की तस्वीर!

उच्च हिमालयी क्षेत्र में पाया जाने वाला हिम तेंदुआ जितना शर्मीला है, उसकी पहचान उतनी ही मुश्किल है। यह जीव पर्यावरण से जुड़े बदलते परिवेश और शिकार जैसे कई चुनौतियों…
क्या आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस के प्रयोग से बदलेगी उत्तराखंड वन्यजीव संरक्षण की तस्वीर!
छोटी आसन नामक स्थानीय जंगली नदी सूखने की कगार पर पहुंच गई थी। इन प्रयासों के बाद नदी का जलस्तर बढ़ा। तस्वीर- वर्षा सिंह

[वीडियो] क्या शुक्लापुर मॉडल उत्तराखंड के धधकते जंगल को बचा सकता है!

“पहले यहां गर्मियों में पूरा जंगल जलकर राख हो जाया करता था। यहां लैंटाना की झाड़ियां होती थीं और उनमें आग लग जाया करती थी। ये आग हमारे खेत और…
छोटी आसन नामक स्थानीय जंगली नदी सूखने की कगार पर पहुंच गई थी। इन प्रयासों के बाद नदी का जलस्तर बढ़ा। तस्वीर- वर्षा सिंह
उत्तरकाशी स्थित हर्षिल इलाके के सेब। तस्वीरः सचेंद्र पंवार

[वीडियो] उत्तराखंड: बर्फ़बारी की बढ़ती अनिश्चितता से सेब बागवान निराश

एक तरफ उत्तराखंड के चमोली में आए सैलाब और उससे हुए जान-माल से सब आहत हैं। दूसरी तरफ वहां के किसान बर्फबारी में अनियमितता और उससे खेती-किसानी पर पड़ने वाले…
उत्तरकाशी स्थित हर्षिल इलाके के सेब। तस्वीरः सचेंद्र पंवार