Articles by kundan

गड़वा पहाड़ी और गंगा। उत्खनन के कारण पहाड़ के धूलकण के पानी में धूल गंगा में जाने से नदी प्रदूषित हो रही है। तस्वीर- राहुल सिंह

झारखंड: पत्थर उत्खनन से राजमहल की पहाड़ी के साथ आदिम जनजाति का अस्तित्व संकट में

रामू मालतो (बदला हुआ नाम) को यह पता नहीं कि लगातार हो रहे पत्थर उत्खनन के कारण छोटा पचरुखी पहाड़ पर स्थित उनके गांव का अस्तित्व कितने सालों तक कायम…
गड़वा पहाड़ी और गंगा। उत्खनन के कारण पहाड़ के धूलकण के पानी में धूल गंगा में जाने से नदी प्रदूषित हो रही है। तस्वीर- राहुल सिंह
भोपाल स्थित बड़ा तालाब पर हाल ही में 750 किलोवॉट का सौर ऊर्जा संयंत्र लगाया गया है। इससे मिलने वाली बिजली का उपयोग पानी पंप करने में हो रहा है। तस्वीर- स्मार्ट सिटी भोपाल

मध्य प्रदेशः बड़ी परियोजनाओं के भरोसे अक्षय ऊर्जा का लक्ष्य

ऊर्जा उत्पादन के मामले में मध्य प्रदेश, देश का एक बड़ा केंद्र माना जाता रहा है। यहां कोयले से चलने वाले कई थर्मल पावर प्लांट या कहें ताप विद्युत संयंत्र…
भोपाल स्थित बड़ा तालाब पर हाल ही में 750 किलोवॉट का सौर ऊर्जा संयंत्र लगाया गया है। इससे मिलने वाली बिजली का उपयोग पानी पंप करने में हो रहा है। तस्वीर- स्मार्ट सिटी भोपाल
खारे पानी को पंप के माध्यम से पाटा पर इकट्ठा किया जा रहा है। यहां वाष्पीकरण के बाद नमक बनने की प्रक्रिया शुरू होगी। आजकल अगरिया सोलर पंप का इस्तेमाल भी करते हैं। तस्वीर- ध्वनित पांड्या/एएचआरएम

नमक की जरूरत सबको पर हाशिए पर है नमक बनाने वाला समुदाय

मानसून ढलान पर है। इस मानसून के आखिरी महीने या कहें सितंबर के आखिरी सोमवार का दिन था। 48-वर्षीय गुणवंत रामजी कोली कच्छ के पूर्वी रण के एक पोखर में…
खारे पानी को पंप के माध्यम से पाटा पर इकट्ठा किया जा रहा है। यहां वाष्पीकरण के बाद नमक बनने की प्रक्रिया शुरू होगी। आजकल अगरिया सोलर पंप का इस्तेमाल भी करते हैं। तस्वीर- ध्वनित पांड्या/एएचआरएम

चुनौतियों के बीच इलेक्ट्रिक वाहनों के विस्तार की कोशिश में ओडिशा

संतोष दास समुद्र तट पर बसे पूरी शहर में रहते हैं। 35 वर्षीय इस युवक ने हाल ही में इलेक्ट्रिक रिक्शा (ई-रिक्शा) चलाना शुरू किया है। आज से लगभग तीन…
खनन के बाद बाजार में भेजने के तैयार क्ले। पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले से इसे देश के कई हिस्सो में भेजा जाता है। इस खनिज का इस्तेमाल सीमेंट, सिरेमिक, प्लास्टिक, पेंट और कई अन्य उत्पाद बनाने में किया जाता है। तस्वीर- सुभ्रजीत सेन

[वीडियो] पश्चिम बंगाल: सफेद क्ले का काला संसार

पांच लोगों के परिवार में अकेले कमाने वाले 30 वर्षीय रबी बागडी पश्चिम बंगाल के काबिलपुर गांव के रहने वाले हैं। हर रोज काम के लिए वे घर से तीन…
खनन के बाद बाजार में भेजने के तैयार क्ले। पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले से इसे देश के कई हिस्सो में भेजा जाता है। इस खनिज का इस्तेमाल सीमेंट, सिरेमिक, प्लास्टिक, पेंट और कई अन्य उत्पाद बनाने में किया जाता है। तस्वीर- सुभ्रजीत सेन
झारखंड में जोहार योजना के तहत उच्च क्षमता वाले सोलर पंप जिसमें 5 से 7.5 हॉर्स पावर (एचपी) क्षमता वाले सोलर पंप दिए जा रहे हैं। तस्वीर- श्रीकांत चौधरी

सौर ऊर्जा पंप: क्या झारखंड के जोहार योजना से बदलेगी किसानों की तकदीर?

झारखंड के खूंटी जिले की रहने वाली परमेश्वरी देवी के पास तीन एकड़ खेती योग्य जमीन है पर उन्होंने पहली बार अपने पूरे खेत पर धान की रोपाई की। वह…
झारखंड में जोहार योजना के तहत उच्च क्षमता वाले सोलर पंप जिसमें 5 से 7.5 हॉर्स पावर (एचपी) क्षमता वाले सोलर पंप दिए जा रहे हैं। तस्वीर- श्रीकांत चौधरी
बिहार के जामनापुर गांव में सरसो के खेत के बीच महिला किसान। जलवायु परिवर्तन की चपेट में आए बिहार के पास फसल उत्पादन के आंकड़े मौजूद नहीं हैं। तस्वीर- पी कैसियर (सीजीआईएआर)/फ्लिकर

बिहार सरकार के पास नहीं हैं पर्याप्त आंकड़े, कैसे बनेगा क्लाइमेट एक्शन प्लान

विकास के विभिन्न मानकों पर बिहार जैसे राज्य की स्थिति जगजाहिर है। वर्तमान समय की नई चुनौतियों से निपटने में भी यह राज्य फिसड्डी साबित हो रहा है। ताजा मामला…
बिहार के जामनापुर गांव में सरसो के खेत के बीच महिला किसान। जलवायु परिवर्तन की चपेट में आए बिहार के पास फसल उत्पादन के आंकड़े मौजूद नहीं हैं। तस्वीर- पी कैसियर (सीजीआईएआर)/फ्लिकर
हसदेव अरण्य का जंगल। यह प्राचीन जंगल पर्यावरण के लिहाज से बेहद संवेदनशील है। तस्वीर- मयंक अग्रवाल/मोंगाबे

कोयला खनन की आशंकाओं से अंधकार में है छत्तीसगढ़ के हसदेव अरण्य का भविष्य

छत्तीसगढ़ के हसदेव अरण्य के जंगल काफी प्रचीन है। जैव-विविधता और पारिस्थितिकी से संपन्न। कोयला खनन को लेकर पिछले एक दशक से यह जंगल बहस के केंद्र में रहा है।…
हसदेव अरण्य का जंगल। यह प्राचीन जंगल पर्यावरण के लिहाज से बेहद संवेदनशील है। तस्वीर- मयंक अग्रवाल/मोंगाबे
असोला भट्टी वन्यजीव अभयारण्य से अधिक जैवविविधता मांगर बानी के असंरक्षित जंगल में पाई गई है। तस्वीर- संशेय विश्वास और मैनो वर्चोट।

[वीडियो] देश की राजधानी से सटा ऐसा जंगल जिसे सैकड़ों साल से बचा रहे स्थानीय लोग

अरावली की पहाड़ियों में बसा हरियाणा का मांगर गांव इन दिनों चर्चा में है। चर्चा यहां के कंदराओं में मिले पाषाणकालीन पेंटिंग की हो रही है जिसे हाल ही में…
असोला भट्टी वन्यजीव अभयारण्य से अधिक जैवविविधता मांगर बानी के असंरक्षित जंगल में पाई गई है। तस्वीर- संशेय विश्वास और मैनो वर्चोट।
सड़क निर्माण के लिए हिमाचल में सैकड़ों पेड़ काटे जाते हैं। तस्वीर- कपिल काजल

हर साल जलवायु परिवर्तन का दंश झेलता हिमाचल प्रदेश

सफेद बर्फ की चादर से ढके पहाड़ी, कुदरती खूबसूरती और विहंगम नजारा। ये सब हिमाचल प्रदेश की पहचान हैं। इसकी खूबसूरती से आकर्षित होकर देश-विदेश के हजारों-हजार लोग राज्य यहां…
सड़क निर्माण के लिए हिमाचल में सैकड़ों पेड़ काटे जाते हैं। तस्वीर- कपिल काजल