पर्यावरण से जुड़ी सुर्खियां

प्रकृति और पर्यावरण से जुड़े मुद्दों की खोज खबर। मोंगाबे एक गैर-लाभकारी संस्था है।

कोयला खदानों पर धनबाद जैसे शहर की अर्थव्यवस्था आधारित है। फोटो- आई फॉरेस्ट

पर्यावरण के लिए कोयला खनन बंद होना जरूरी पर ऐसी स्थिति में बेरोजगार हो रहे लाखों लोगों के भविष्य का क्या!

झारखंड का रामगढ़ जिला भविष्य में आने वाली एक अजीबोगरीब चुनौती से रू-ब-रू कराता है। इस जिले के 54,000 घर अपने जीवन-यापन के लिए कोयला-खदानों पर निर्भर हैं। इनमें से…
कोयला खदानों पर धनबाद जैसे शहर की अर्थव्यवस्था आधारित है। फोटो- आई फॉरेस्ट
छत्तीसगढ़ की चाय इसी बागान से आती है। यह बागान वन विभाग द्वारा जशपुर के सारूडीह गांव में एक दशक पहले बना था। फोटो- वन विभाग

पेश है छत्तीसगढ़ की चाय, स्वाद-सुगंध में दार्जिलिंग टी के बराबर, लेकिन जलवायु परिवर्तन से चुनौती

चाय पीने वालों की दुनिया में असम या दार्जिलिंग की चाय का नाम ही काफी है। कुछ ऐसा कि बड़ी-बड़ी कंपनियां भी प्रचार में यह बताना नहीं भूलतीं कि उनकी…
छत्तीसगढ़ की चाय इसी बागान से आती है। यह बागान वन विभाग द्वारा जशपुर के सारूडीह गांव में एक दशक पहले बना था। फोटो- वन विभाग

पर्यावरण और संरक्षण की खबरों के लिए मोंगाबे-हिन्दी में आपका स्वागत है

मोंगाबे-हिन्दी को आपके साथ साझा करते हुए मुझे हार्दिक प्रसन्नता हो रही है। इस समाचार वेबसाइट का उद्देश्य भारत की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा, हिन्दी में पर्यावरण और…
मादा खरमोर राजस्थान के आसमान में उड़ान भरती हुई। राजस्थान का शोकलिया-केकरी क्षेत्र में खरमोर प्रजनन के लिए आते हैं। फोटो- अंगद अछाप्पा/विकिमीडिया कॉमन्स

इंसानी विकास की होड़ से संकट में खरमोर पक्षी का अस्तित्व

मालवी में भाट कुकड़ा, हिंदी में खरमोर और अंग्रेजी में लैसर फ्लोरिकन। अलग-अलग बोली-भाषाओं में इस पक्षी के अनेक नाम हैं, लेकिन हर स्थान पर इस पक्षी से जुड़ी एक…
मादा खरमोर राजस्थान के आसमान में उड़ान भरती हुई। राजस्थान का शोकलिया-केकरी क्षेत्र में खरमोर प्रजनन के लिए आते हैं। फोटो- अंगद अछाप्पा/विकिमीडिया कॉमन्स
झामरकोटरा के इस खदान से फॉस्फेट निकाला जाता है। इसकी वजह से ग्रामीणों की जिंदगी तबाह हो गई है। फोटो- सोहैल खान

पौधों में जान डालने वाले फॉस्फेट के खदानों ने गांव के गांव कर दिए तबाह

सिंचाई की व्यवस्था होने के बावजूद अगर फसल सूखने या मुरझाने लगे तो परेशान किसान को बताया जाता है कि मिट्टी में फॉस्फोरस की कमी हो गई है। फिर किसान…
झामरकोटरा के इस खदान से फॉस्फेट निकाला जाता है। इसकी वजह से ग्रामीणों की जिंदगी तबाह हो गई है। फोटो- सोहैल खान
कोविड-19 लॉकडाउन में बढ़े इंटरनेट के इस्तेमाल से भी जलवायु पर असर, पेश है इको फ्रेंडली वेबसाइट की तकनीक

कोविड-19 लॉकडाउन में बढ़े इंटरनेट के इस्तेमाल से भी जलवायु पर असर, पेश है इको फ्रेंडली वेबसाइट की तकनीक

कोविड-19 महामारी की वजह से लगाए लॉकडाउन की वजह से अर्थव्यवस्था को करोड़ों-अरबों का नुकसान हुआ, लेकिन आम धारणा यह बनी कि पर्यावरण पर इसका अच्छा प्रभाव हुआ। लॉकडाउन के…
कोविड-19 लॉकडाउन में बढ़े इंटरनेट के इस्तेमाल से भी जलवायु पर असर, पेश है इको फ्रेंडली वेबसाइट की तकनीक
मधुमक्खी की नजदीक से ली गई तस्वीर। फोटो- जॉन सुलिवन विकिमीडिया कॉमन्स

मधुमक्खियों पर दिखने लगा वायु प्रदूषण का असर, खेती पर भी आएगा संकट

वायु प्रदूषण को लेकर देश के कुछ महानगर और औद्योगिक शहरों की चर्चा होती है, जहां प्रदूषण का स्तर मानक से काफी अधिक है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि…
मधुमक्खी की नजदीक से ली गई तस्वीर। फोटो- जॉन सुलिवन विकिमीडिया कॉमन्स
बैनर इलस्ट्रेशन- कश्मीर में जन्मे गजल कादरी ने इस तस्वीर को बनाया है। अब वे अमेरिका में रहते हैं।

लोग आते गए और कारवां बनता गया: श्रीनगर के डल झील की सफाई के लिए बाप-बेटी आये आगे तो शहर को मिली प्रेरणा

एक सिगरेट की ठूंठ ने श्रीनगर के तारिक ए पतलू का जीवन बदल दिया। अब रोजाना जब अपनी सेहत की चिंता में लोग मॉर्निंग वॉक के लिए निकलते हैं तो…
बैनर इलस्ट्रेशन- कश्मीर में जन्मे गजल कादरी ने इस तस्वीर को बनाया है। अब वे अमेरिका में रहते हैं।
महरौली पुरातत्व पार्क से कुतुब मिनार का एक दृष्य। फोटो- दीपन्विता गीता नियोगी।

अंग्रेजों का पीपल-बरगद के डर से लेकर मुगलों के 600 साल पुराने पेड़, दिल्ली की हरियाली को कितना जानते हैं आप

‘ट्रेन टू पाकिस्तान’ जैसे उपन्यास लिखने वाले और अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स के संपादक रह चुके खुशवंत सिंह ने दिल्ली को दुनिया की सबसे हरी-भरी राजधानी का खिताब दिया था।…
महरौली पुरातत्व पार्क से कुतुब मिनार का एक दृष्य। फोटो- दीपन्विता गीता नियोगी।
हैदराबाद में इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन बनाया गया है। फोटो- आईमहेश विकिमीडिया कॉमन्स

क्या देश की महत्वाकांक्षी इलेक्ट्रिक वाहन की योजना पर्यावरण और समाज के लिए और मुश्किल पैदा करेगी?

पिछले कुछ सालों से भारत सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों (इवी) को बढ़ावा देने की बात करती रही है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कई दफा भारत की सड़कों पर…
हैदराबाद में इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन बनाया गया है। फोटो- आईमहेश विकिमीडिया कॉमन्स