ऊर्जा News

बिहार: अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में भी साबित हो रहा रुकतापुर, 4 साल में महज 0.5 प्रतिशत लक्ष्य हुआ हासिल

अक्षय ऊर्जा: यहां भी बिहार साबित हो रहा रुकतापुर, 4 साल में 0.5% लक्ष्य हुआ हासिल

इस वक्त कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में जब पूरे देश में कोरोना के इलाज के लिए अस्पतालों में एक सीट नहीं मिल रही, ऐसे में बिहार के एक छोटे…
बिहार: अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में भी साबित हो रहा रुकतापुर, 4 साल में महज 0.5 प्रतिशत लक्ष्य हुआ हासिल
[वीडियो] खनन का दंश झेल रही महिलाएं पर इसकी चर्चा तक नहीं होती

[वीडियो] खनन का दंश झेल रही महिलाएं पर इसकी चर्चा तक नहीं होती

यह जगजाहिर है कि खनन की वजह से जमीन का ह्रास, रोजगार का संकट और जैव-विविधता पर बुरा असर हो रहा है। पर आस-पास रहने वाली महिलाएं भी इससे बुरी…
[वीडियो] खनन का दंश झेल रही महिलाएं पर इसकी चर्चा तक नहीं होती
उदारीकरण के तीस साल: मूलभूत ऊर्जा जरूरतों के लिए संघर्षरत समाज, अभी और बिगड़ेगी स्थिति

उदारीकरण के तीस साल: मूलभूत ऊर्जा जरूरतों के लिए संघर्षरत समाज, अभी और बिगड़ेगी स्थिति

स्वतंत्र भारत के इतिहास में 1991 को एक अहम पड़ाव माना जाता है जब देश ने वैश्विक पूंजी के लिए अपनी अर्थव्यवस्था खोलने की शुरुआत की। तब हक्की बाई करीब…
उदारीकरण के तीस साल: मूलभूत ऊर्जा जरूरतों के लिए संघर्षरत समाज, अभी और बिगड़ेगी स्थिति
झारखंड में कोयला खदान से तहस-नहस हुई जमीन को वापस संवारने की कोशिश

[वीडियो] झारखंड: कोयला खदान से बर्बाद हुई जमीन के सुधार से सुधरी कई परिवारों की जिंदगी

बीते कुछ वर्षों में झारखंड के चतरा जिले की बेंती गांव निवासी कठपुतली देवी का जीवन बदला है। कुछ महीनों पहले तक गांव के समीप पिपरवार कोयला खदान की वजह…
झारखंड में कोयला खदान से तहस-नहस हुई जमीन को वापस संवारने की कोशिश

[कमेंट्री] स्वच्छ ऊर्जा का लक्ष्य: सिर्फ मंजिल नहीं रास्तों की भी करनी होगी परवाह

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के पदभार संभालने के बाद, जलवायु परिवर्तन भारत और अमरीका के संबंधों के बीच फिर से एक धुरी बनकर उभर रहा है। चतुर्भुज सुरक्षा संवाद…
सौर ऊर्जा ः सोलर पैनल की सफाई करता एक किसान। तस्वीर- अथर परवेज

सौर ऊर्जा: सूरज की रोशनी से पैसा बना रहे गुजरात के कुछ ग्रामीण किसान

सूरज की रोशनी ढुंडी गांव के लिए नया सवेरा लेकर आया है। गुजरात के खेड़ा जिला स्थित इस गांव में महज तीन साल पहले तक बिजली का ग्रीड नहीं था।…
सौर ऊर्जा ः सोलर पैनल की सफाई करता एक किसान। तस्वीर- अथर परवेज

संपादक की नजर में 2020: वायरस से जुड़ी चिंता के बीच पर्यावरण को लेकर मिले मौके चूक जाने का वर्ष

आधिकारिक तौर पर भारत में कोविड-19 का पहला मामला केरल के थ्रीसुर में जनवरी 2020 में दर्ज किया गया था। अभी दिसंबर 2020 में 90-वर्षीय ब्रिटेन का एक नागरिक इस…
यह तस्वीर पन्ना जिले के आदिवासी गांव मानस सागर की है। आंकड़ों के अनुसार प्रत्येक राज्य में स्वच्छ ईंधन के इस्तेमाल में मात्र 15 फीसदी की ही बढ़ोत्तरी हुई है। यानी एक बड़ी आबादी साफ इंधन का इस्तेमाल नहीं कर रही है। फोटो- मनीष चंद्र मिश्र/मोंगाबे-हिन्दी

सरकारी सर्वेक्षण से खुली प्रधानमंत्री उज्जवला योजना की पोल, बहुत कम इस्तेमाल हो रहा एलपीजी

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कुछ बड़ी उपलब्धियों में ‘प्रधानमंत्री उज्जवला योजना’ की गिनती होती है। सरकार दावा करती है कि इस कार्यक्रम की मदद से देश के 98…
यह तस्वीर पन्ना जिले के आदिवासी गांव मानस सागर की है। आंकड़ों के अनुसार प्रत्येक राज्य में स्वच्छ ईंधन के इस्तेमाल में मात्र 15 फीसदी की ही बढ़ोत्तरी हुई है। यानी एक बड़ी आबादी साफ इंधन का इस्तेमाल नहीं कर रही है। फोटो- मनीष चंद्र मिश्र/मोंगाबे-हिन्दी
बुद्गम जंगल से गुजरता हुआ पावर लाइन। इन बिजली के तारों की वजह से पेड़ों को काटा गया। फोटो- अथर परवेज

आदिवासियों को जंगल से उजाड़ने वाली जम्मू-कश्मीर सरकार को क्या वाकई है पर्यावरण की चिंता

जम्मू-कश्मीर की ऊंची पहाड़ियों पर घने जंगलों के किनारे बेहद छोटी-छोटी झोपड़ियां नजर आती हैं। पत्थर, मिट्टी और घास-फूस से बने ये घर गुज्जर समुदाय के लोगों का आशियाना है।…
बुद्गम जंगल से गुजरता हुआ पावर लाइन। इन बिजली के तारों की वजह से पेड़ों को काटा गया। फोटो- अथर परवेज
हैदराबाद में इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन बनाया गया है। फोटो- आईमहेश विकिमीडिया कॉमन्स

क्या देश की महत्वाकांक्षी इलेक्ट्रिक वाहन की योजना पर्यावरण और समाज के लिए और मुश्किल पैदा करेगी?

पिछले कुछ सालों से भारत सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों (इवी) को बढ़ावा देने की बात करती रही है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कई दफा भारत की सड़कों पर…
हैदराबाद में इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन बनाया गया है। फोटो- आईमहेश विकिमीडिया कॉमन्स