पर्यावरण से जुड़ी सुर्खियां

प्रकृति और पर्यावरण से जुड़े मुद्दों की खोज खबर। मोंगाबे एक गैर-लाभकारी संस्था है।

पुणे में स्थित एक बायो-सीएनजी स्टेशन। बायो-सीएनजी को सीधे सीएनजी से चलने वाले वाहनों में डाला जा सकता है। तस्वीर-मनीष कुमार

क्या बायो-सीएनजी बन सकता है भारत के नवीन ऊर्जा के भविष्य का एक प्रभावशाली विकल्प?

इस साल अगस्त के महीने में पंजाब सरकार ने घोषणा की कि राज्य में संपीडित (कंप्रेस्ड) बायोगैस (सीबीजी) का व्यावसायिक उत्पादन संगरूर के भुट्टन कलन नाम के गांव से बड़े…
पुणे में स्थित एक बायो-सीएनजी स्टेशन। बायो-सीएनजी को सीधे सीएनजी से चलने वाले वाहनों में डाला जा सकता है। तस्वीर-मनीष कुमार
हैचलिंग की रखवाली करता एक नर घड़ियाल। तस्वीर:घड़ियाल पारिस्थितिकी परियोजना / एमसीबीटी।

नेपाल: क्या बाघों की बढ़ती संख्या विलुप्त होते घड़ियालों के संरक्षण के लिए एक चुनौती है?

जुलाई 31 की सुबह नेपाल के चितवन नेशनल पार्क स्थित कसारा घड़ियाल प्रजनन केंद्र के बाड़े में एक बाघ (वैज्ञानिक नाम-पैंथेरा टाइग्रिस) घुस गया। इसने कुछ देर तक घड़ियालों के…
हैचलिंग की रखवाली करता एक नर घड़ियाल। तस्वीर:घड़ियाल पारिस्थितिकी परियोजना / एमसीबीटी।

विकेंद्रीकृत नवीन ऊर्जा के क्षेत्र में बढ़ रहा रोजगार का अवसर, ग्रामीण इलाकों में रुक सकता है पलायन

विकेंद्रीकृत नवीन ऊर्जा का देश के ग्रामीण इलाकों में देखा जाना आजकल आम होता जा रहा है। सौर ऊर्जा से ग्रामीण क्षेत्र में कई चुनौतियों का समाधान खोजा जा रहा…
हरसिद्धि प्रखंड के सोनवरसा गांव में 400 साल पुराने बरगद के पेड़ की पहचान की गई और स्थानीय लोगों के सहयोग से इसे संरक्षित किया गया है। तस्वीर- शशि शेखर

चंपारण के गार्डियन: पुराने पेड़ों को बचाने की एक अनोखी पहल

दुनियाभर में पेड़ों को बचाने के लिए कई अभियान चल रहे हैं। लेकिन बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में पुराने दरख्तों को सहेजने का एक अनोखा अभियान चल रहा है।…
हरसिद्धि प्रखंड के सोनवरसा गांव में 400 साल पुराने बरगद के पेड़ की पहचान की गई और स्थानीय लोगों के सहयोग से इसे संरक्षित किया गया है। तस्वीर- शशि शेखर
सीएआईएफ 20 से अधिक भारतीय और वैश्विक ब्रांडों के साथ विभिन्न पायलट प्रोजेक्ट पर काम कर रही है और 'हरित सूक्ष्म-उद्यमियों' को तैयार करने की पहल में सक्रिय रूप लगी हुई है। फोटो: सीएआईएफ।

‘टेक, मेक, वियर एंड थ्रो’ के दौर में भारत की सर्कुलर फैशन का अर्थतंत्र

हाल के वर्षों में, कपड़ा उद्योग से होने वाले पर्यावरण और सामाजिक नकारात्मक प्रभावों की आलोचना होती रही है। कपड़ा उद्योग का पर्यावरण पर नकारात्मक प्रभाव कई वजहों से हुआ…
सीएआईएफ 20 से अधिक भारतीय और वैश्विक ब्रांडों के साथ विभिन्न पायलट प्रोजेक्ट पर काम कर रही है और 'हरित सूक्ष्म-उद्यमियों' को तैयार करने की पहल में सक्रिय रूप लगी हुई है। फोटो: सीएआईएफ।
नई दिल्ली में इंद्रप्रस्थ डीटीसी बस डिपो के पास एक व्यस्त सड़क। तस्वीर- मनीष कुमार / मोंगाबे

दिल्ली में ई-बसों का विस्तार हो तो घट सकती हैं प्रदूषण से होने वाली मौत

दिल्ली में वायु प्रदूषण का मौसम फिर से आ रहा है और लोग सहमे हुए हैं। दूसरी तरफ 2022 की शुरुआत से दिल्ली की  सड़कों पर कई नए तरीके की…
नई दिल्ली में इंद्रप्रस्थ डीटीसी बस डिपो के पास एक व्यस्त सड़क। तस्वीर- मनीष कुमार / मोंगाबे
पक्षी परिचय खेल में एशियन बुलबुल की तस्वीर शामिस की गई है। तस्वीर- गुरुराज मुरचिंग/अर्ली बर्ड

खेल खेल में हो रहा बच्चों का पक्षियों से परिचय

भारत में करीब साढ़े छः लाख गांव हैं। इन्हीं गावों में एक ऐसा भी है जिसके पास अपने क्षेत्र में मौजूद पक्षियों का एक बेसलाइन डाटा मौजूद है। इससे भी…
पक्षी परिचय खेल में एशियन बुलबुल की तस्वीर शामिस की गई है। तस्वीर- गुरुराज मुरचिंग/अर्ली बर्ड
बडासियालिनी गांव के स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) की एक महिला दो किस्म के बाजरा दिखाती हुई, रागी (बाएं) और ज्वार (दाएं)। तस्वीर: ऐश्वर्या मोहंती।

मोटे अनाज की खेती से बदल रही ओडिशा के आदिवासी महिलाओं की जिंदगी

30 साल की कल्पना सेठी अपनी दो एकड़ जमीन को उत्साह से दिखाती हैं, यह जमीन कभी एक बंजर भूमि थी लेकिन अब यह जमीन उनके बच्चों की शिक्षा में…
बडासियालिनी गांव के स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) की एक महिला दो किस्म के बाजरा दिखाती हुई, रागी (बाएं) और ज्वार (दाएं)। तस्वीर: ऐश्वर्या मोहंती।
एनसीआर के गुरुग्राम जैसे शहरों के अनियोजित व्यावसायीकरण और विकास का ख़ामियाजा अरावली को भुगतना पड़ रहा है। तस्वीर: अरावली बचाओ नागरिक आंदोलन

अरावली की तबाही का सबब बन सकता है एनसीआर ड्राफ्ट प्लान-2041

साल 2005 से लागू एनसीआर क्षेत्रीय योजना- 2021 को आगे बढ़ाने के लिए एनसीआर मसौदे की क्षेत्रीय योजना- 2041 को प्रस्ताव लाया गया है। इस ड्राफ्ट प्लान को एनसीआर में…
एनसीआर के गुरुग्राम जैसे शहरों के अनियोजित व्यावसायीकरण और विकास का ख़ामियाजा अरावली को भुगतना पड़ रहा है। तस्वीर: अरावली बचाओ नागरिक आंदोलन
श्रीलंका की व्यावसायिक राजधानी कोलंबो के मध्य में राष्ट्रपति कार्यालय के सामने बड़े पैमाने पर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन। तस्वीर : दिलरुक्षी हंडुनेट्टी 

श्रीलंका: पर्यावरण नीतियों की विफलताओं ने भी जन-क्रांति को दी हवा

जून की शुरुआत में श्रीलंका में एक जन-आंदोलन ने वहां के शायद अब तक के सबसे अलोकप्रिय राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे को पद से हटने पर मजबूर कर दिया। इस आंदोलन…
श्रीलंका की व्यावसायिक राजधानी कोलंबो के मध्य में राष्ट्रपति कार्यालय के सामने बड़े पैमाने पर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन। तस्वीर : दिलरुक्षी हंडुनेट्टी