पर्यावरण से जुड़ी सुर्खियां

प्रकृति और पर्यावरण से जुड़े मुद्दों की खोज खबर। मोंगाबे एक गैर-लाभकारी संस्था है।

ग्राम सभा की बैठक के दौरान ग्रामीण और सुरक्षाबल। तस्वीर- राजाराम सुंदरेसन

ओडिशा: बॉक्साइट खनन को लेकर पुलिस तंत्र के साये में ग्राम सभा, आदिवासियों में रोष

मणिमा पटनायक एक आदिवासी समाज की महिला हैं जो कई वर्षो से माली पर्वत के नीचे स्थित अपने गांव मे अपने परिवार के साथ रहती हैं। पिछले महीने, नवम्बर 22…
ग्राम सभा की बैठक के दौरान ग्रामीण और सुरक्षाबल। तस्वीर- राजाराम सुंदरेसन
योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन के समय तीन लाख रुपए की एकमुश्त राशि जमा करनी पड़ती है, जिसमें लोगों को मुश्किलें आ रही हैं। तस्वीर- वर्षा सिंह

बड़ी परियोजनाओं पर रहा ध्यान और हाशिए पर गया रूपटॉप सोलर

साल 2022 जितना नजदीक आ रहा है, भारत के लिए रूफटॉप सोलर ऊर्जा का लक्ष्य पाना मुश्किल होता जा रहा है। रूफटॉप सोलर यानी छतों पर सोलर पैनल लगाकर ऊर्जा…
योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन के समय तीन लाख रुपए की एकमुश्त राशि जमा करनी पड़ती है, जिसमें लोगों को मुश्किलें आ रही हैं। तस्वीर- वर्षा सिंह
ग्लोब स्किमर के पंख। समुद्री जीवविज्ञानी चार्ल्स एंडरसन का कहना है कि ग्लोब स्किमर एक ऐसी उड़ान मशीन है जिसका डिजाइन उच्च कोटि का है। तस्वीर- Harum.koh/विकिमीडिया कॉमन्स

हिंद महासागर के ऊपर बिना रुके सबसे लंबी दूरी तक पलायन करते हैं ड्रैगनफ्लाई पतंगे

समुद्री रास्ते से मालदीव जाने के दौरान जीवविज्ञानी चार्ल्स एंडरसन ने झुंड के झुंड पतंगे देखे। इसे अंग्रेजी में ड्रैगनफ्लाई कहते हैं। ये पतंगे पूर्वी अफ्रीका की ओर उड़ान भर…
ग्लोब स्किमर के पंख। समुद्री जीवविज्ञानी चार्ल्स एंडरसन का कहना है कि ग्लोब स्किमर एक ऐसी उड़ान मशीन है जिसका डिजाइन उच्च कोटि का है। तस्वीर- Harum.koh/विकिमीडिया कॉमन्स
सूखे शौचालय से निकला खाद। तस्वीर- रक्षक कुमार आचार्य

हिमालय क्षेत्र में जैविक खाद की बढ़ी संभावना, सफल रहा शौचालय के साथ प्रयोग

सुनने में भी भले ही यह अटपटा लगे, लेकिन मानव मल का इस्तेमाल खाद के तौर पर हिमालय क्षेत्र में लंबे समय से होता आ रहा है। यहां इतनी ठंड…
सूखे शौचालय से निकला खाद। तस्वीर- रक्षक कुमार आचार्य
खनन के खिलाफ स्वदेशी समुदायों के सदस्यों के लिए कला का इस्तेमाल एक सशक्त हथियार है। तस्वीर- अमोल के. पाटिल। कॉपीराइट © प्रभाकर पचपुते, कोलकाता।

गांव छोड़ब नहीं: खनन से जुड़े प्रतिरोध में कला के सहारे बुलंद होती आवाज

“आगे मशीनीकरण के राज, जुच्छा कर देही सबके हाथ, बेरोजगारी हे अइसे बाढ़े हे, अउ आघु बढ़ जाही रे, मेहनतकश जनता हा, बिन मौत मारे जाही रे, फिर होही अनर्थ…
खनन के खिलाफ स्वदेशी समुदायों के सदस्यों के लिए कला का इस्तेमाल एक सशक्त हथियार है। तस्वीर- अमोल के. पाटिल। कॉपीराइट © प्रभाकर पचपुते, कोलकाता।
Dolphin

सुंदरबन में ताजे पानी की कमी से संघर्ष कर रही हैं गंगा डॉल्फिन

भारत का एक अनोखा जलीय जीव है गंगा डॉल्फिन जिसकी गिनती  लुप्तप्राय जीवों की श्रेणी में होती है। कभी सुंदबन क्षेत्र में सामान्यतः दिख जाना वाले इस जीव को अब…
Dolphin
छत्तीसगढ़ के पारिस्थितिकी तौर पर संवेदनशील क्षेत्र एन कोयला खनन को लेकर हमेशा विवाद रहा है। तस्वीर-आलोक प्रकाश पुतुल

छत्तीसगढ़ में कोयला खनन: दो रिपोर्ट, दो सिफारिश और सरकारी खेल

क्या छत्तीसगढ़ में, पर्यावरण और वन्यजीवों को लेकर शोध संस्थाओं की चेतावनी को हाशिये पर रखते हुए कोयला खनन को मंजूरी दी जा रही है? भारतीय वन्यजीव संस्थान की ताज़ा…
छत्तीसगढ़ के पारिस्थितिकी तौर पर संवेदनशील क्षेत्र एन कोयला खनन को लेकर हमेशा विवाद रहा है। तस्वीर-आलोक प्रकाश पुतुल

पोखर-तालाब पर लग रहे हैं सोलर पैनल, क्या है इसका भविष्य? 

भूरबन्धा, असम राज्य के मोरीगांव ज़िले का एक ऐसा गांव है जहां वर्ष 2017 तक बिजली नहीं पहुच पाई थी। गाँव में पढ़ाई करने वाले छात्र अक्सर किरोसिन तेल से…
मदारी समुदाय के लोग अब ऐसे ही कॉस्टयूम से काम चलाते हैं। तस्वीर- माधव शर्मा

कहां चले गए भालू-बंदरों का खेल दिखाने वाले मदारी?

राजस्थान के टोंक शहर के एक मोहल्ले में डमरू बजाते हुए नूर मोहम्मद, भालू को निर्देश दे रहे हैं। मदारी का खेल दिखाने वाले नूर के कहने पर भालू कभी…
मदारी समुदाय के लोग अब ऐसे ही कॉस्टयूम से काम चलाते हैं। तस्वीर- माधव शर्मा
आदिवासी जंगल में जाते हुए। गढ़चिरौली के क्षेत्र में इन दिनों नए तरीके से शहद निकाला जा रहा है जो न केवल टिकाऊ है बल्कि रोजगार देने वाला भी है। तस्वीर तस्वीर- सौरभ कटकुरुवार

महाराष्ट्र के आदिवासी जिलों में शहद निकालने का आया एक नया टिकाऊ तरीका

पूर्वोत्तर महाराष्ट्र में स्थित गढ़चिरौली जिले के आदिवासी परिवार शहद निकालने का एक ऐसा तरीका अपना रहे हैं जिसमें मधुमक्खियों को नुकसान नहीं होता। यहां के आदिवासी परिवार आसपास के…
आदिवासी जंगल में जाते हुए। गढ़चिरौली के क्षेत्र में इन दिनों नए तरीके से शहद निकाला जा रहा है जो न केवल टिकाऊ है बल्कि रोजगार देने वाला भी है। तस्वीर तस्वीर- सौरभ कटकुरुवार