हमारे बारे में

मोंगाबे हिंदी एक समाचार सेवा है जिसका उद्देश्य प्रकृति और पर्यावरण से जुड़े ज़मीनी मुद्दों और नीतिगत मामलों पर उच्च कोटि की खबरें प्रकाशित करना है.

कोडरमा और गिरिडिह जिले में अभ्रक का अवैध खनन बेरोकटोक जारी है। फोटो- विशेष प्रबंध

झारखंड में अभ्रक का अवैध खनन जारी, होने वाले जान-माल के नुकसान का कोई  लेखा-जोखा नहीं 

श्याम (नाम बदला हुआ) जंगल की तरफ से दौड़ता हुआ आया। साथ लगे गुमटी से मुठ्ठी भर चने खरीदे और उसी गति से वापस भाग गया। ये चने उसने अपने…
कोडरमा और गिरिडिह जिले में अभ्रक का अवैध खनन बेरोकटोक जारी है। फोटो- विशेष प्रबंध
तीस्ता नदी के किनारे शोधकर्ताओं ने मेढ़क की प्रजातियों की पहचान की। फोटो-

जलवायु परिवर्तन और शिकार की वजह से खत्म हो रहे सिक्किम के तीस्ता नदी के मेढ़क

जलवायु परिवर्तन की मार अब मेढकों पर भी। हाल ही में आए शोध से पता चला है कि ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन की वजह से तीस्ता नदी के आसपास…
तीस्ता नदी के किनारे शोधकर्ताओं ने मेढ़क की प्रजातियों की पहचान की। फोटो-
चंद्रपुर ताप ऊर्जा विद्युत संयंत्र के बीच से निकलने वाला नाला जिसकी मदद से बाघ कभी-कभार चंद्रपुर शहर की सीमा में प्रवेश कर जाता है। फोटो- सौरभ कटकुरवार

महाराष्ट्र के एक विद्युत संयंत्र में इंसानों के साथ रहने लगे हैं बाघ, क्या होगा भविष्य

चंद्रपुर, महाराष्ट्र। बाघ का नाम आते ही घने जंगल याद आते हैं। ऐसे जंगल जहां बाघ निश्चिंत भाव से विचरण कर रहे हैं और उन्हें इंसानी गतिविधियों की कोई फिक्र…
चंद्रपुर ताप ऊर्जा विद्युत संयंत्र के बीच से निकलने वाला नाला जिसकी मदद से बाघ कभी-कभार चंद्रपुर शहर की सीमा में प्रवेश कर जाता है। फोटो- सौरभ कटकुरवार
राजस्थान के बीकानेर में ऊंट पालने का स्थान फोटो- नीडपिक्स

सात साल में 37 फीसदी कम हो गई ऊंटों की आबादी, क्या दूध व्यापार से बदलेगी तस्वीर

जब देश में लॉकडाउन सख्ती से लागू था उन्हीं दिनों मुंबई की एक महिला ने प्रधानमंत्री को टैग करते हुए ट्वीट किया। ऑटिज्म से ग्रसित अपने साढ़े तीन साल के…
राजस्थान के बीकानेर में ऊंट पालने का स्थान फोटो- नीडपिक्स
जादूगौड़ा की पहाड़ियों में वर्ष 1967 से ही खनन का काम होता आ रहा है। ग्रामीणों का आरोप है कि लोगों का जीवन स्तर सुधरने के बजाए यहां के लोग गंभीर बीमारियों के शिकार हो गए हैं। फोटो- - सुभ्रजीत सेन

भारत के परमाणु सपनों को उड़ान देने वाले क्षेत्र की हृदय विदारक दास्तान

जादूगोड़ा, झारखंड। सोलह साल की अनामिका ओराम का एक मासूम सा सपना है कि वो भी अन्य बच्चों की तरह पढ़े-लिखे। पर इस बच्ची का यह छोटा सा सपना भी…
जादूगौड़ा की पहाड़ियों में वर्ष 1967 से ही खनन का काम होता आ रहा है। ग्रामीणों का आरोप है कि लोगों का जीवन स्तर सुधरने के बजाए यहां के लोग गंभीर बीमारियों के शिकार हो गए हैं। फोटो- - सुभ्रजीत सेन
प्राकृतिक चिकित्सा से इलाज के लिए बगीचे में औषधि तैयार करती महिलाएं

छत्तीसगढ़ के जंगलों की प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को लोगों तक पहुंचा रही यह आदिवासी महिला

कोरबा, छत्तीसगढ़। आज से करीब तीस साल पहले सरोजिनी गोयल के माता-पिता जड़ी-बूटी और इलाज में काम आने वाली फूल-पत्तियों की तलाश में घने जंगलों की ख़ाक छाना करते थे।…
प्राकृतिक चिकित्सा से इलाज के लिए बगीचे में औषधि तैयार करती महिलाएं
आईआईटी मंडी के आसपास की हरियाली को ध्यान में रखते हुए इसका निर्माण किया गया है। फोटो- आईआईटी मंडी

कुदरत के बेहद करीब हैं देश के ये शीर्ष तकनीकी संस्थान, वन्य जीवों को भी मिला ठिकाना

क्या आप अनुमान लगा सकते हैं कि इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ( आईआईटी ) बॉम्बे के परिसर में कौन रहता है? बड़े-बड़े सपनों के साथ दूर दराज से आये छात्र-छात्राएं,…
आईआईटी मंडी के आसपास की हरियाली को ध्यान में रखते हुए इसका निर्माण किया गया है। फोटो- आईआईटी मंडी
इस तस्वीर में हाथी के शरीर पर बने घाव के निशान साफ दिख रहे हैं दो उन्हें इंसानी टकराव में मिले हैं। हाथी को कुछ वर्ष पहले वन विभाग ने पालतू बनाने के लिए पकड़ा था।

खाने की खोज में आ गए छत्तीसगढ़ के हाथी मध्यप्रदेश के बाघ वाले इलाके में

उमरिया, मध्यप्रदेश: महामन गांव के खेलावन सिंह तमाम कोशिशों के बाद भी इस साल धान की खेती नहीं कर पाए। बार-बार धान की रोपाई की पर हर बार हाथियों ने…
इस तस्वीर में हाथी के शरीर पर बने घाव के निशान साफ दिख रहे हैं दो उन्हें इंसानी टकराव में मिले हैं। हाथी को कुछ वर्ष पहले वन विभाग ने पालतू बनाने के लिए पकड़ा था।