पर्यावरण से जुड़ी सुर्खियां

प्रकृति और पर्यावरण से जुड़े मुद्दों की खोज खबर। मोंगाबे एक गैर-लाभकारी संस्था है।

- नारायण चौधरी ने समाज के लोगों को साथ लेकर तालाब बचाने का अभियान शुरू किया जिसकी वजह से मिथिला के कई तालाब फिर से जीवित हो उठे। इलस्ट्रेशन- शीना देवियह

मुश्किल में मिथिला के तालाब, लोगों के प्रयास से आ रहे सकारात्मक बदलाव

‘पग-पग पोखर माछ मखान, सरस बोल मुस्की मुख पान, ई थिक मिथिला केर पहचान।’ मैथिली भाषा की यह कहावत इस क्षेत्र के संपन्न प्राकृतिक वातावरण और यहां के लोगों के…
- नारायण चौधरी ने समाज के लोगों को साथ लेकर तालाब बचाने का अभियान शुरू किया जिसकी वजह से मिथिला के कई तालाब फिर से जीवित हो उठे। इलस्ट्रेशन- शीना देवियह
भारत के राज्य तेलंगाना में बना सौर ऊर्जा का प्लांट। फोटो- थॉमस लॉयड ग्रुप/विकिमीडिया कॉमन्स

अक्षय ऊर्जा की रौनक में भूल न जाए मजदूरों के हित की बात

हाल ही में जब केंद्र सरकार ने व्यावसायिक कोयला खनन की अनुमति दी तो सरकार का सबसे मुखर विरोध कोयला खनन में कार्य कर रहे कर्मचारियों की तरफ से किया…
भारत के राज्य तेलंगाना में बना सौर ऊर्जा का प्लांट। फोटो- थॉमस लॉयड ग्रुप/विकिमीडिया कॉमन्स
बाढ़ का पानी मुसरंबाग में इस तरह घुस आया था। फोटो- सुमंत आर

शहरों के बाढ़ की कहानी, झीलों के शहर हैदराबाद की जुबानी

अक्टूबर 13 को निज़ामों के शहर हैदराबाद में जब लोग सोकर उठे तो उनके प्यारे शहर में हर तरफ पानी ही पानी नजर आ रहा था। विडंबना यह कि इस…
बाढ़ का पानी मुसरंबाग में इस तरह घुस आया था। फोटो- सुमंत आर
पिथारा गांव के किसान उमेश कुमार अपने हरे-भरे खेत में खड़े होकर फसलों को दिखा रहे हैं। फोटो- सोशल एक्शन फॉर रूरल डेवलपमेंट (एसएआरडीए)

पानी बचाने के छोटे-छोटे प्रयोग से झारखंड के किसानों की बढ़ी आमदनी

उमेश कुमार सिमडेगा जिले के एक मेहनती किसान हैं। पहाड़ियों और हरे जंगल से घिरा उनका गांव एक सकारात्मक परिवर्तन से गुजर रहा है। पिछले कुछ सालों से उमेश अपने…
पिथारा गांव के किसान उमेश कुमार अपने हरे-भरे खेत में खड़े होकर फसलों को दिखा रहे हैं। फोटो- सोशल एक्शन फॉर रूरल डेवलपमेंट (एसएआरडीए)
दक्षिण एशिया की फसल को टिड्डी ने इस तरह तबाह कर दिया। फोटो- खाद्य एवं कृषि संस्था

टिड्डी दल पर प्रयोग हुए कीटनाशक का असर इंसान और दूसरे जीवों पर भी

इस साल देश में टिड्डी दलों का बड़ा हमला हुआ था। मार्च 2020 से शुरू हुए इस हमले के बाद करीब पांच महीने तक टिड्डियों ने देश के कई हिस्सों…
दक्षिण एशिया की फसल को टिड्डी ने इस तरह तबाह कर दिया। फोटो- खाद्य एवं कृषि संस्था
दीमकों द्वारा बनाये गए अधिकतर टीले इतने मजबूत होते हैं कि सिर्फ ड्रिल करने या हथौड़े से ही तोड़े जा सकते हैं फोटो निखिल मोरे

दीमक होते हैं गजब के कारीगर, बनाते हैं हजारों साल तक खड़े रहने वाला टीला

कीटों की दुनिया में अगर वास्तुकारों या आर्किटेक्ट की बात की जाए तो दीमक निसन्देह इसके बादशाह माने जाएंगे।  मिट्टी, पानी और अपने लार को मिलाकर दीमक जैसा टीला तैयार…
दीमकों द्वारा बनाये गए अधिकतर टीले इतने मजबूत होते हैं कि सिर्फ ड्रिल करने या हथौड़े से ही तोड़े जा सकते हैं फोटो निखिल मोरे
पटियाला के एक गांव में पराली जलाता हुआ किसान

पंजाब में तीन गुणा बढ़ा पराली जलाने का मामला, दिल्ली के लोगों पर प्रदूषण और कोविड-19 की दोहरी मार

तेईस अक्टूबर को हुए तीसरे और आखिरी प्रेसीडेंशियल बहस में अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत का जिक्र करते हुए कहा कि यहां की हवा बहुत गंदी है।…
पटियाला के एक गांव में पराली जलाता हुआ किसान
कोडरमा और गिरिडिह जिले में अभ्रक का अवैध खनन बेरोकटोक जारी है। फोटो- विशेष प्रबंध

झारखंड में अभ्रक का अवैध खनन जारी, होने वाले जान-माल के नुकसान का कोई  लेखा-जोखा नहीं 

श्याम (नाम बदला हुआ) जंगल की तरफ से दौड़ता हुआ आया। साथ लगे गुमटी से मुठ्ठी भर चने खरीदे और उसी गति से वापस भाग गया। ये चने उसने खुद…
कोडरमा और गिरिडिह जिले में अभ्रक का अवैध खनन बेरोकटोक जारी है। फोटो- विशेष प्रबंध
तीस्ता नदी के किनारे शोधकर्ताओं ने मेढ़क की प्रजातियों की पहचान की। फोटो-

जलवायु परिवर्तन और शिकार की वजह से खत्म हो रहे सिक्किम के तीस्ता नदी के मेढ़क

जलवायु परिवर्तन की मार अब मेढकों पर भी। हाल ही में आए शोध से पता चला है कि ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन की वजह से तीस्ता नदी के आसपास…
तीस्ता नदी के किनारे शोधकर्ताओं ने मेढ़क की प्रजातियों की पहचान की। फोटो-
चंद्रपुर ताप ऊर्जा विद्युत संयंत्र के बीच से निकलने वाला नाला जिसकी मदद से बाघ कभी-कभार चंद्रपुर शहर की सीमा में प्रवेश कर जाता है। फोटो- सौरभ कटकुरवार

महाराष्ट्र के एक विद्युत संयंत्र में इंसानों के साथ रहने लगे हैं बाघ, क्या होगा भविष्य

चंद्रपुर, महाराष्ट्र। बाघ का नाम आते ही घने जंगल याद आते हैं। ऐसे जंगल जहां बाघ निश्चिंत भाव से विचरण कर रहे हैं और उन्हें इंसानी गतिविधियों की कोई फिक्र…
चंद्रपुर ताप ऊर्जा विद्युत संयंत्र के बीच से निकलने वाला नाला जिसकी मदद से बाघ कभी-कभार चंद्रपुर शहर की सीमा में प्रवेश कर जाता है। फोटो- सौरभ कटकुरवार